Tue. May 21st, 2024

देव वार्ता समाचार

सम्पादक नौशाद अली

सालाना उर्स मुबारक हज़रत गौस ए आज़म दस्तगीर महबूब सुबहानी रज़ी अल्लाहु अन्हु मनाया गया.

महाराष्ट्र के हिंगोली जिला के बसमत तालुका में हिन्दू मुस्लिम एकता के प्रतीक चिल्ला महबूब सुबहानी रज़ी अल्लाहु अन्हु ( बगाड़ी शरीफ़) का तीन दिवसीय सालाना उर्स मुबारक मनाया गया, और संदल मुबारक निकाला गया.
जिसमे सूफ़ी खानकाह एसोसिएशन के प्रदेश महासचिव सूफ़ी उबेद अहमद अंसारी हाशमी शुत्तारी कादरी चिश्ती साहब ने शिरकत की.
संदल मुबारक दरगाह चिल्ला मुतवल्ली व मुजावर गोरे परिवार माली समाज
के निगरानी में और शेख़ जमील साहब कादरी चिश्ती कलनदरी की सरपरस्ती में निकाला गया.
जिस में हर साल की तरह सूफ़ी खानकाह एसोसिएशन के प्रदेश महासचिव सूफ़ी उबेद अहमद अंसारी साहब ने सूफ़ी खानकाह एसोसिएशन के सभी पदाधिकारीयों के साथ शिरकत की।
संदल मुबारक में सूफ़ी खानकाह एसोसिएशन के बसमत शहर अध्यक्ष शेख़ रहमत साहब, शहर उपाध्यक्ष शेख़ समदानी साहब,शेख़ युसुफ़ भाई, अब्दुल हाफ़िज़ भाई साहब,शेख़ अहमद, शेख़ मोहसिन, शेख़ इरफान,सय्यद समीर, अमान चाचा,के अलावा बसमत नगर के हजारों आशिकाने औलिया अल्लाह व गुलामाने गौस ए आज़म दस्तगीर ने शिरकत की।
संदल मुबारक सूफ़ी परम्परा के अनुसार ढोल बाजे के साथ निकाला गया, जिस में हिन्दू मुस्लिम भाइयों ने हजारों की तादाद में शिरकत की।
संदल मुबारक दरगाह हज़रत चिल्ला महबुब ए सुबहानी (बगाड़ी शरीफ़) से निगल कर शहर बसमत के मुख्तलिफ इलाकों से गश्त करता हुआ फिर दरगाह हज़रत महेबूब सुबहानी ( बगाड़ी शरीफ़) पे पहुंचा.
संदल मुबारक में अलम ए गौस ए आज़म दस्तगीर लगाने के बाद सलात व सलाम और फातिहा खवानी की गई.
और मुल्क व मिल्लत की सलामती के लिए दुआ की गई,
बिलखुसुस फलस्तीन में अमन व अमान के लिए दुआ की गई.
बाद संदल के लंगर का इंतजाम सूफ़ी शेख़ अरशद भाई की जानिब से किया गया, लंगर तकसीम करने में शेख़ हसन कादरी चिश्ती साहब ने काफी सहयोग किया,और दरगाह के मुतवल्ली व मुजवार गोरे परिवार की जानिब से भी पारंपरिक तरीके से लंगर का इंतजाम किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *